57 Views

कमाल ही कमाल है ???
✍️ २३२२

विनोदकुमार महाजन

$$$$$$$$$$$$$$$

कमाल ही कमाल है !!

इतने भयंकर हिंदुद्रोही और
धर्मद्रोहियों को हिंदु आखिर
स्विकारते कैसे है ?
और सर्वोच्च सत्तास्थान पर
बिठाते भी कैसे है ??

स्वाभिमान, आत्मसंम्मान सचमुच में मर गया है
हिंदुओं का ?

और प्रखर राष्ट्रप्रेमीयों को
और राष्ट्राभिमाननीयों को
यहीं हमारे हिंदु नकारते है ??

अजब गजब का न्याय है
हिंदुओं तुम्हारा !!

बरबादी करनेवालों का साथ ?
और आबादी करनेवालों का ?
दुस्वास ??

धन्य है तुम्हारी !
विनाश की ओर धकेलते जा रहे हो ? और फिर भी आँखें नहीं खोल रहे हो ??

तो तुम्हें मोदी, योगी ही क्या ?
प्रत्यक्ष ईश्वर भी कैसे बचायेगा ??

हे प्रभो , मेरे भाईयों को सद्बुद्धी दे !!

हरी ओम्

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!