29 Views

हिंदू ही हिंदुओं का बैरी ?
✍️ २४४८

*******************

खुद का अस्तित्व निर्माण करने के लिए तथा हिंदुधर्म का कार्य करने के लिए दुर्देव से ,
अनेक महापुरुषों क परकीयों से जादा स्वकीयों से जादा लडना पडा और इसी में ही उनकी भयंकर शक्ती खर्च हो गई !
और स्वकीयों से लडते लडते केवल अस्तित्व ही समाप्त होने का समय ही नहीं आया बल्की
संपूर्ण जीवन ही बरबाद होने का उनके जीवन में समस्या आ गयी !

सावरकरजी के हिंदुत्व को हिंदुओं द्वारा ही प्रताड़ित क्यों किया गया ?
जबकी उनकी विचारधारा धधगते सत्य पर आधारित थी !
सुभाषचंद्र बोस , शिवाजी महाराज , संभाजी महाराज , तुकाराम महाराज , संत ज्ञानेश्वर जैसे महापुरुषों को भी हमारे ही लोगों द्वारा बारबार क्यों प्रताड़ित किया गया ?
अनेक बार हमारे महात्माओं को भी , अपनों द्वारा ही खून के आँसू क्यों पिने पडे ?

बात अत्यंत संवेदनशील है !

और फिर भी वही महापुरुष हरपल अपने दिव्य मकसद की ओर निरंतर बढते ही गये !

हमारे ही धर्म में ऐसा विडंबन क्यों ??

मेरे जीवन में भी ऐसी महाभयानक समस्याओं का सामना बारबार करना पड़ा !मगर सद्गुरू कृपा , ईश्वरी कृपा और खडतर तपश्चर्या द्वारा मैंने मेरे जीवन का चीत्र ही बदल दिया ! और आज इसीका परीणाम यह हुवा की आज मैं मेरे उच्चतम और दिव्य मकसद के नजदीक खडा हूं !

मैं संपूर्ण पृथ्वी पर प्रेम के दो शब्दों के लिए तरसता और तडपता रहा ! मगर प्रेम का दिव्य अमृत कहीं पर भी नहीं मिला !

विशेषत: मेरे सद्गुरु आण्णा ने देह त्यागने के बाद !

और आखिर देवीदेवताओं ने मुझे प्रेमपूर्वक बाणी से आधार भी दिया और हरपल प्रोत्साहित भी किया !
मेरे अश्रुओं को भी पोंछा !

वैश्विक ईश्वरी कार्य के लिए !

मगर ईश्वर निर्मित वहीं इंन्सान ?
मुसिबतों की जलती आग में…
केवल… वह दो शब्द…
” चिंता मत कर , ईश्वर सबकुछ ठीक करेगा ! ” इतना भी नहीं कह सका ?

हमारे देश में अनेक महापुरुषों को भी ठीक ऐसा ही अनुभव क्यों आता है ?
जिसे अपना समझकर दिव्य प्रेम किया वही भी हमारे बरबादी की तैयारियां कर बैठते है ?

मुसिबतों के भयंकर समय में अपनों द्वारा दो शब्दों का आधार मिलना तो दूर की बात है ,उल्टा भयंकर कुठाराघात सहने पडते है !

बहुत से हिंदू महापुरुषों का यही दुर्दैव है ! इसका उत्तर क्या है ?

सौ बार नहीं , हजारों लाखों बार सोचो !
और जो कोई धर्म का कार्य कर रहा है , अकेला लड रहा है , उसके पिछे अपनी शक्ति खडी कर दो !
कम से कम उसे रूलाओ तो मत !

हरी ओम्

*********************

विनोदकुमार महाजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!