20 Views

*दोष किसका ? सजा किसको ?*
*कौन जिम्मेदार ?*
✍️ २४६३

*विनोदकुमार महाजन*

*********************

यह एक निष्पाप बेटी की कर्मकहाणी है ! सत्यघटनाओं पर आधारित है ! ( थोडाबहुत बदलाव करके ! )

जब माँ बाप अपने बच्चों के लिए , उनका भविष्य उज्वल बनाने के लिए अथक प्रयास करते है , दिनरात मेहनत करते है तो शायद ?
निश्चित ही उन बच्चों को उसका जीवनभर के लिए फायदा ही मिलता है !
और एक निश्चिंत जीवन प्राप्त होता है !

मगर अगर माँ बाप ही बच्चों का मानसिक उत्पीड़न करते है , उनपर नन्ही सी उमर में लगातार भयंकर अत्याचार करते रहते है तब ?
उसका बुरा असर भी उन बच्चों पर जीवनभर के लिए रहता ही है !
और ऐसे कमनशीबी बच्चों का जीवन लगभग बरबाद ही हो जाता है !

आखिर नशीब अपना अपना होता है !

यह एक सत्य घटना पर आधारित कहाणी है ! अपनी माँ की गलती की वजह से कैसे एक निष्पाप लडकी का जीवन बरबाद हो गया ! और आजीवन के लिए उसे कैसे नारकीय जीवन प्राप्त हुवा ?

शायद आपकी आत्मा भी काँप उठेगी यह पढकर !

कथा पढकर आप कहेंगे ?
गलती किसकी ? सजा किसको ?
और ऐसी अनेक घटनाएं समाज में हमेशा घटीत होती रहती है !

आखिर इसका जिम्मेदार कौन ?
समाज ? समाजरचना ?
कानून व्यवस्था ?
या फिर हर एक का प्रारब्धभोग ?

आज भी समाज में अनेक निष्पाप , निरागस , ईश्वरीगुणसंपन्न छोटे छोटे बच्चों पर येनकेन प्रकारेण अनेक मानसिक आघात होते रहते है , और उनका उज्वल भविष्य लगभग समाप्त हो जाता है , पूरा जीवन ही बरबाद हो जाता है…

तो इसका जिम्मेदार कौन ?
दोष किसका ?
सजा किसको ?

तो कथा सुनिए : – ( कुछ लोग तो यह भी कहेंगे की ऐसा हो ही नही सकता है —- खैर ! )

अपने पती के निधन के बाद एक स्र्ति धन लालच में आकर किसी तांत्रिक के चंगूल में फँस जाती है ! आखिर तांत्रिक तो तांत्रिक ही होते है !
उस तांत्रिक ने उस स्त्री का गलत फायदा उठाना आरंभ किया ! और मनमानी करने लगा !

धिरेधिरे उस तांत्रिक ने उस औरत के बडी बेटी को भी चंगूल में फँसाकर धिरेधिरे उसका भी फायदा उठाया ! मगर तंग आकर उस लडकी ने आत्महत्या कर डाली !
विशेष निंदनीय बात यह है की उस तांत्रिक के ऐसे कृत्य में उस बेटी की माँ का ही संपूर्ण हाथ था !
यह कैसी माँ ??

अबतक तो मसला गुप्त था !
मगर जब उस तांत्रिक ने उस औरत की दूसरी बेटी के साथ भी ठीक ऐसा ही व्यवहार करना आरंभ किया !
तो उस बेटी ने विरोध किया !
मगर उस बेटी की माँ ही बेटी को ऐसे कृत्य के लिए तैयार कर रही थी ! उफ्…..
वह औरत उसकी बेटी के सामने ही , उस तांत्रिक के साथ नग्न होकर सारा कर्म करने लगी !
ताकि बेटी भावनाविवश तरीकों से दुष्कर्म के लिए तैयार हो !

मगर हुआ उल्टा !
उस बेटी ने ऐसी ही स्थिति में दोनों की हत्या कर डाली !
और पुलिस स्टेशन जाकर रिपोर्ट दर्ज की !
( इस विषय पर शायद युट्यूब पर वीडियो उपलब्ध होंगे ! )

कोर्ट में केस चली !
उस बेगुनाह , निष्पाप लडकी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई !
एक जीवन बरबाद !
आखिर कौन जिम्मेदार ?

और अगर उस लडकी की सजा कम होकर वह लडकी समाज में फिर वापिस आयेगी तो क्या समाज , रिश्तेनाते उस लडकी को स्विकारेंगे ? फिरसे उसे आनंदी जीवन प्राप्त होगा ?

या फिर उसे अनजान जगह पर जाकर एक गुमनाम जीवन जीना पडेगा ? उस हत्या का आजीवन ह्रदय पर बोझ लेकर ?

शायद समाज के पास इसका कोई उत्तर नहीं होगा !

जय जय रामकृष्णहरी
@@@@@@@@@@

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!