18 Views

*हमारे अंदर ही है राम और* *शाम !!*
✍️ २४७५

———————————–

राम के मार्ग से चलकर
कार्य सफल बनाने का
प्रयास करेंगे !
सिधी उंगली से घी निकालने
का प्रयास करेंगे !

और अगर सिधी उंगली से
घी नहीं निकलता है तो
कृष्णकन्हैया के मार्ग से
चलकर , टेढी उंगली करके
घी निकालेंगे !

मगर घी निकालकर ही रहेंगे !
कार्य सफल बनाकर ही रहेंगे !

हमारे अंदर ही है मेरा
सिदासादा राम !!
हमारे अंदर ही है मेरा कृष्णकारस्थानी शाम !!

जय सियाराम !!
जय राधेश्याम !!

——————————–

*विनोदकुमार महाजन*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!